File and Folder in Hindi:- अगर आप भी जानना चाहते हैं की फाइल और फोल्डर (File and Folder in Hindi) के बारे में वो भी हिंदी में तो आप बिलकुल सही वेबसाइट पे आए हैं यहाँ आपको मैं पूरी जानकारी मिलेगी की फाइल और फोल्डर क्या है (what is File and Folder in Hindi) और आप इसे कैसे इस्तेमाल कर सकते हैं वो भी संछेप में।

File and Folder in Hindi 

फाइल और फोल्डर क्या है (what is File and Folder in Hindi)

फोल्डर को समझने से पहले आवश्यक है कि फाइल्स को समझ लिया जाये। कम्प्यूटर में वह सिस्टम जिसका प्रयोग किसी भी प्रकार की सूचना को स्टोर करने के लिए किया जाता है उसे फाइल कहते है।

कम्प्यूटर में हर सूचना फिर चाहे वह कोई वेबपेज हो या कोई सॉफ्टवेयर, सब एक फाइल ही हैं। आसान से शब्दों में, कम्प्यूटर की फाइल आपके ऑफिस के वर्क डॉक्यूमेंट्स या उनके पुस्तकों की तरह होती है जिसमें किसी भी जानकारी को स्टोर किया जा सकता है।

अब फोल्डर को समझते हैं। तो यह बताइये कि क्या आपको इच्छित जानकारी पुस्तकालय की किसी भी पुस्तक में मिल सकती है? नहीं , अपको अपनी आवश्यकतानुसार कोई भी सूचना किसी भी पुस्तक में नहीं मिल सकती है,

जब तक कि आपको यह पता हो कि आप इच्छित सूचना को पुस्तकालय के किस खंड में रखी किस पुस्तक के किस पेज में खोजें यानी किसी पुस्तक को खोजने के लिए आपको यह मालूम होना चाहिए वह कहाँ रखी है।

इसी प्रकार से विंडोज में स्टोर किसी सुचना को खोजने के लिए आपको यह पता होना चाहिए कि वह सूचना जिस फाइल में रखी है वह कम्प्यूटर में कहाँ स्टोर है।

फाइल्स स्टोर करने के लिए विंडोज फोल्डर नामक प्रोग्राम प्रदान करता है। फोल्डर को एक वर्चुअल कण्टेनर या ब्रीफकेस मान सकते है जिसमें किसी फाइल को स्टोर किया जाता है।

जिस प्रकार से हम ब्रीफकेस में अपनी कोई भी वस्तु रख सकते हैं, उसी प्रकार से हम फोल्डर में अपनी आवश्यक फाइल्स रख सकते हैं।

विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम में एक फोल्डर के अन्दर दूसरे फोल्डर्स का निर्माण भी किया जा सकता है इस प्रकार जिस फोल्डर के अन्दर अन्य फोल्डर्स बनाये गये हैं उसे मुख्य फोल्डर (Main Folder) कहते हैं,

और उसके अन्दर बनाये गये सभी फोल्डर्स सबफोल्डर्स कहलाते हैं। उदाहरण के लिए, मान लीजिए कि आप विज्ञान विषय पर कोई पुस्तक लिख रहे हैं और आपने ‘Science’ नाम से एक फोल्डर का निर्माण किया,

जिसके अन्दर ‘Chapter 1’, ‘Chapter 2’ नाम से कई अन्य फोल्डर्स का निर्माण किया गया है। इस स्थिति में ‘Science’ मुख्य फोल्डर और ‘Chapter 1’, ‘chapter 2… सबफोल्डर्स होंगे।

फोल्डर का निर्माण करना (Creating a Folder in Hindi)

विंडोज 7 में कोई भी काफी आसानी से फोल्डर्स का निर्माण कर सकता है। किसी फोल्डर का निर्माण करने के लिए आपकी निम्न चरणों का अनुसरण करना होगा:

शॉर्टकट मेन्यू का प्रयोग करके (Using Shortcut Menu)

  • डेस्कटॉप या विंडोज एक्सप्लोरर में किसी रिक्त स्थान (जहाँ कोई भी आइकॉन हो ) पर माउस की दायें बटन से क्लिक कीजिए।
  • एक शॉर्टकट मेन्यू ओपन होगा, जिसके न्यू (New) विकल्प पर जाइये तथा फोल्डर पर क्लिक कीजिए।
  • ऐसा करते ही आपको स्क्रीन पर एक नया फोल्डर दिखायी देने लगेगा जिसे डिफॉल्ट रूप से ‘New Folder’ नाम होगा। इस पर कर्सर ब्लिंक कर रहा होगा। इस स्थान पर आप फोल्डर को अपनी आवश्यकतानुसार कोई भी नाम दे सकते हैं।

इसी प्रकार से किसी भी फोल्डर के अन्दर एक सबफोल्डर का निर्माण किया जा सकता है।

कम्प्रेस फोल्डर का निर्माण करना (Creating a Compress Folder in Hindi)

मान लीजिए कि आप अपने किसी परिचित को कोई इमेज या फाइल मेल करना चाहते हैं तो आप क्या करेंगे? शायद आपको उत्तर होगा कि उस मेल में अटैच करेंगे और भेज देंगे।

लेकिन यदि फाइल्स की संख्या 50 से ज्यादा हो तो? तो शायद सभी फाइल्स को एकएक करके अटैच करने और प्राप्तकर्ता को डाउनलोड करने में समस्या आएगी।

नहीं, कोई समस्या नहीं आएगी क्योंकि आप इन सभी फाइल्स को एक फाइल के रूप में ही अपलोड कर सकते हैं। आप मनचाही फाइल्स को एक विशेष प्रकार के फोल्डर में रख सकते हैं जिस कम्प्यूटर एक फाइल ही मानकर चलता है।

इस फोल्डर को कम्प्रेस्ड (जिप्ड) फोल्डर (Compressed (zipped) Folder) कहते हैं। इस फोल्डर में आप चाहे कितनी ही फाइल्स को रखें लेकिन कम्प्यूटर इसे एक फाइल ही मानेगा लेकिन इसका साइज उसमें मौजूद सभी फाइल्स के अनुसार ही होगा।

यदि आप सभी फाइल्स को पुन: एक्सेस करना चाहते हैं तो इस फील्डर को एक्सट्रैक्ट (Extract) भी कर सकते हैं। आप निम्न प्रकार से एक कम्प्रेस्ड फोल्डर का निर्माण का सकते हैं:

  • जिन फाइल्स को आप इस कम्प्रेस्ड फोल्डर के अन्दर रखना चाहते है उनका चयन कीजिए।
  • माउस की दायीं बटन पर क्लिक कीजिए और Send To पर जाइये।
  • Compressed (zipped) Folder u pereticio कीजिए। आपकी फाइल कम्प्रेस्ड हो जायेगी।

फाइल को एक्सट्रैक्ट करना (Extracting a file in Hindi)

  • कम्प्रेस्ड फाइल पर दायाँ क्लिक कीजिए और Extract All… पर क्लिक कीजिए।
  • ओपन हुए एक्सट्रैक्शन विजार्ड में उस पाथ का चयन कीजिए जहाँ आप फाइल को एक्सट्रैक्ट करना चाहते हैं
  • अब ‘Extract’ पर क्लिक कर दीजिए।

फाइल या फोल्डर को कॉपी करना (Copying a File or Folder in Hindi)

फाइल या फोल्डर को कॉपी करने का अर्थ है कम्प्यूटर के किसी अन्य स्थान में उसी फाइल या फोल्डर को एक प्रति का निर्माण करना।

फाइल की कॉपी करना हमारे लिए तब उपयोगी साबित होता है जब हम उस फाइल का निर्माण किसी अन्य स्थान पर भी करना चाहते हैं लेकिन उसे उसके मूल स्थान से नहीं हटाना चाहते है।

इसके अतिरिक्त यदि हम किसी लोकल एरिया नेटवर्क से जुड़े हुए हैं, तो हम फाइल्स या फोल्डर्स को कॉपी करके एक कम्प्यूटर से दूसरे कम्प्यूटर तक भी भेज सकते हैं। विंडोज 7 में आप निम्न प्रकार से किसी फाइल की कॉपी कर सकते हैं:

  • डेस्कटॉप, माइ डॉक्यूमेंट या उस ड्राइव पर जाइये जहाँ वह फाइल या फोल्डर उपस्थित है, जिसे आप कॉपी करना चाहते हैं।
  • अपनी फाइल या फोल्डर की प्रतिलिपि का निर्माण करने के लिए आपके पास तीन विकल्प है। पहला उस फाइल या फोल्डर आइकॉन पर माउस की दायें बटन से क्लिक कीजिए और ओपन हुए शॉर्टकट मेन्यू में कॉपी (Copy) विकल्प पर क्लिक कीजिए दूसराबायीं और दिये गये ‘Organize’ मेन्यू को ओपन कीजिए और उसमें ‘Copy’ पर क्लिक कीजिए तीसराकीबोर्ड से Ctrl+C शॉर्टकट कुंजी का प्रयोग कीजिए।
  • कॉपी करने के बाद बारी आती है फाइल या फोल्डर को पेस्ट करने की। कम्प्यूटर के उस फोल्डर या ड्राइव पर जाइये जहाँ फाइल या फोल्डर को पेस्ट करना है।
  • माउस की दायें बटन से क्लिक करके शॉर्टकट मेन्यू ओपन कीजिए और पेस्ट (Paste) का चयन कीजिए या ‘Organize’ मेन्यू से पेस्ट पर क्लिक कीजिए या फिर कीबोर्ड से Ctrl+V शॉर्टकट कुंजी का प्रयोग करके फोल्डर को पेस्ट कर दीजिए। कीबोर्ड .

फाइल या फोल्डर को मूव करना (Moving Files or Folders in Hindi)

फाइल्स या फोल्डर्स को मूव करने का अर्थ है, उन्हे एक स्थान से दूसरे स्थान ले जाना। किसी भी फाइल या फोल्डर को हम किसी भी एक ड्राइव से दूसरे ड्राइव या एक कम्प्यूटर से दूसरे कम्प्यूटर तक सरलतापूर्वक स्थानांतरित कर सकते है। इस कार्य के लिए हम निम्न चरणों का अनुसरण करते हैं:

  • डेस्कटॉप, माइ डॉक्यूमेंट या उस ड्राइव पर जाइयें जहाँ वह फाइल या फोल्डर उपस्थित है, जिसे आप वहाँ से हटाकर किसी अन्य स्थान में ले जाना चाहते हैं।
  • अपनी फाइल या फोल्डर को मूव करने के लिए आपके पास तीन विकल्प है। पहला उस फाइल या फोल्डर आइकॉन पर माउस की दायें बटन से क्लिक कीजिए और ओपन हुए शॉर्टकट मेन्यू में कट (Cut) विकल्प पर क्लिक कीजिए। दूसराबायीं और दिये गये ‘Organize’ मेन्यू को ओपन कीजिए और उसमें ‘Cut’ पर क्लिक कीजिए | तीसराकीबोर्ड से Ctrl+X शॉर्टकट कुंजी का प्रयोग कीजिए।
  • कॉपी करने के बाद बारी आती है फाइल या फोल्डर को पेस्ट करने की। कम्प्यूटर के उस फोल्डर या ड्राइव पर जाइये जहाँ फाइल या फोल्डर को पेस्ट करना है।
  • माउस को दायें बटन से विलक करके शॉर्टकट मेन्यू ओपन कीजिए और पेस्ट (Paste) का चयन कीजिए या ‘Organize’ मेन्यू से पेस्ट पर विलक कीजिए या फिर कीबोर्ड से Ctrl+V शॉर्टकट कुंजी का प्रयोग करके फोल्डर को पेस्ट कर दीजिए।

शॉर्टकट मेन्यू का उपयोग करके फाइल्स का निर्माण करना (Creating Files using Shortcut menu)

विंडोज किसी सामान्य फोल्डर की तरह ही कुछ चुनिंदा एप्लीकेशन जाम (Application Program) की फाइल का निर्माण करने की सुविधा प्रदान करता है,

वह भी उन एप्लीकेशन प्रोग्राम्स का निर्माण किये बिना (हलांकि, उस फाइल में डाटा प्रविष्ट करने के लिए आपको वह फाइल ओपन करनी ही पड़ेगी, उसके लिए कोई अन्य रास्ता नहीं है)

इस प्रकार से एप्लीकेशन प्रोग्राम ओपन करने, फाइल सेव करने में लगने वाला समय बचता है। शॉर्टकट मेन्यू का प्रयोग करके नई फाइल का निर्माण करने की प्रक्रिया भी नये फोल्डर का निर्माण करने की प्रक्रिया की तरह ही है बस आपको ‘Folder’ के स्थान पर इच्छित फाइल्स का चयन करना है।

फाइल या फोल्डर का नाम बदलना (Renaming a File or Folder in Hindi)

कम्प्यूटर में कई फाइल्स और फोल्डर्स होते हैं और एक प्रोग्राम की सभी फाइल्स के आइकान भी एक जैसे ही होते हैं। ऐसी स्थिति में अलगअलग फाइल्स की पहचान करने के लिए आवश्यक है उनके नाम भी अलगअलग हों।

हम अपनी आवश्यतानुसार किसी भी फाइल या फोल्डर को पुनः नामकरणा कर सकते है अर्थात् उस फाइल या फोल्डर के नाम को बदल सकते हैं। इस कार्य के लिए निम्न चरणों का अनुसरण कीजिए:

  • उस फोल्डर या ड्राइव को ओपन कीजिए, जिसमें वह फाइल या फोल्डर स्थित है जिसका नाम आप बदलना चाहते है।
  • इच्छित फाइल या फोल्डर पर माउस से दायाँ बटन क्लिक कीजिए ओपन मेन्यू से ‘Rename’ पर क्लिक कीजिए या फाइल का चयन करके ‘Organize’ मैन्यू पर जाइये और ‘Rename’ का चयन कीजिए
  • ऐसा करते ही उस फाइल के नाम पर कर्सर ब्लिंक करने लगेगा। यहाँ आप अपनी इच्छानुसार फाइल को कोई भी नया नाम दे सकते हैं।

फाइल्स तथा फोल्डर्स के विभिन्न व्यू (Different Views of Files and Folders in Hindi)

फाइल्स या फोल्डर्स के व्यू का अर्थ है उनके दिखने का तरीका। जब आप विंडोज एक्सप्लोरर ओपन करते है तो फाइल्स और फोल्डर्स अलगअलग व्यू के आधार पर आपको वे अलगअलग प्रकार के दिखायी देते हैं जैसे,

किसी आइकॉन में आपको केवल फाइल का नाम दिखायी देता है तो किसी में नाम के साथ फाइल से सम्बन्धित अन्य जानकारियाँ भी। विंडोज में फाइल्स तथा फोल्डर्स के निम्न प्रकार के व्यूज होते है:

  • कंटेंट व्यू (Content View)
  • टाइल्स व्यू (Tiles View)
  • डिटेल्स व्यू (Details View)
  • लिस्ट व्यू (List View)
  • आइकॉन व्यू (Icon View)

कंटेंट व्यू (Content View): 

इस व्यू में हमें फोल्डर्स और फाइल्स से सम्बन्धित कुछ आवश्यक जानकारी मिलती है जैसे फोल्डर बनने की तारीख, फाइल का प्रयोग आकार आदि।

.टाइल्स व्यू (Tiles View):

इस व्यू में फाइल्स तथा फोल्डर्स के आइकॉन कंटेंट व्यू की तुलना में बड़े दिखायी देते हैं। इस व्यू में फाइल्स और फोल्डर्स के नाम, आकार और प्रकार भी दिखायी देते हैं।

डिटेल्स व्यू (Details View): 

नाम से ही स्पष्ट होता है कि इस व्यू में हमें फाइल्स और फोल्डर्स से सम्बन्धित सभी जानकारियाँ मिलती हैं जैसे उनका नाम, टाइप, साइज और संशोधन दिनांक।

लिस्ट व्यू (List View): 

यह व्यू तब कारगर साबित होता है जब आपके फोल्डर में कई फाइल्स हों तथा उन्हें कंटेंट, लिस्ट या किसी अन्य व्यू में देखना संभव हो पा रहा हो। इस व्यू में फाइल्स और फोल्डर्स एक छोटे आइकॉन के रूप में केवल अपने नाम के साथ प्रदर्शित होते हैं।

आइकॉन व्यू (Icon View): 

इस व्यू में फाइल्स और फोल्डर्स स्टैण्डर्ड आइकॉन्स के साथ प्रदर्शित होते है जिसके नीचे उनका नाम दिखायी देता है। विंडोज 7 में कुल चार प्रकार के आइकॉन व्यू प्रदान किये गये हैं।

छोटे आहकॉन्स के लिए ‘Small Icons’ व्यू, मध्यम आकार के आइकॉन्स के लिए ‘Medium Icons’ व्यू बड़े आइकॉन्स के लिए ‘Large Icons’ व्यू और सबसे बड़े आइकॉन्स के लिए ‘Extra Large Icons’ व्यू।

इन व्यूज को हम दो प्रकार से चुन सकते हैं। विंडोज एक्सप्लोरर में व्यू लिस्ट से इनका चयन कीजिए या फिर विंडोज एक्सप्लोरर के अन्दर माउस से दायाँ क्लिक करके ओपन मैन्यू से ‘Views’ सबमेन्यू से भी उपयुक्त व्यू चुनिये।

फाइल का प्रीव्यू देखना (Previewing Files in Hindi)

किसी भी ऑपरेटिंग सिस्टम या सामान्य एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर में प्रीव्यू फीचर काफी उपयोगी होता है। इस फीचर से हमें यह पता चलता कि किसी टूल या कमांड का प्रयोग करने पर हमारा कंटेंट कैसे प्रभावित होगा।

विंडोज एक्सपी तक इस प्रकार का एक फीचर था फिल्मस्ट्रिप व्यू(FilmStrip View) जिस प्रयोग करके किसी इमेज फाइल को ओपन किये बिना ही उसका प्रीव्यू देखा जा सकता था।

इस व्यू की तर्ज पर ही विंडोज 7 प्रीव्यू पेन (Preview Pane) सम्मिलित किया गया है जिसका प्रयोग करके इमेज फाइल ही नहीं किसी भी फाइल का प्रीव्यू देखा जा सकता है,

जैसे, जब आप किसी पीडीएफ फाइल के आइकॉन का चयन करेंगे तो प्रीव्यू पेन में आपके लिए वह फाइल लघु रूप में ओपन हो जायेगी, जिसे देखकर आपको पता चल जायेगा कि उस फाइल के अन्दर क्या है।

आप निम्न चरणों का अनुसरण करके प्रीव्यू पेन को सक्रिय कर सकते हैं:

  • विंडोज एक्सप्लोरर ओपन कीजिए।
  • organize’ पर क्लिक कीजिए और ‘Layout’ पर जाइये।
  • ओपन सबमेन्यू से ‘Preview Pane’ पर क्लिक कर उसे सक्रिय कीजिए या फिर विंडोज एक्प्लोरर में दायीं और शीर्ष में ‘Views’ मेन्यू के बाद दी गयी प्रीव्यू पेन बटन पर क्लिक कीजिए।
  • ऐसा करते ही चित्रानुसार प्रीव्यू पेन ओपन हो जायेगा। इसके बाद जब भी आप किसी फाइल का चयन करेंगे, तो उसका प्रीव्यू आपको इस प्रीव्यू पैन में दिखायी देगा

फाइल्स या फोल्डर को डिलीट करना (Deleting Files and Folders in Hindi)

जिसका निर्माण किया जाता है उसे डिलीट भी किया जा सकता है। अगर आपको किसी फाइल या फोल्डर की आवश्यकता अब नहीं रह गयी है तो उन अनावश्यक फाइल्स या फोल्डर्स को विंडोज में बड़ी ही सरलता से डिलीट भी कर सकते हैं। अगर आप किसी फाइल या फोल्डर को डिलीट करना चाहते हैं तो निम्न चरणों का अनुसरण कीजिए:

  • जिस फाइल या फोल्डर को डिलीट करना चाहते हैं उस पर क्लिक करके उसका चयन कीजिए।
  • विंडोज 7 में किसी फाइल या फोल्डर को तीन प्रकार से डिलीट किया जा सकता है। पहला, कीबोर्ड से डिलीट (Delete) कुंजी दबाकरा दूसरा, आइकॉन पर माउस से दायाँ क्लिक करने पर ओपन हुए शार्टकट मेन्यू ‘Delete’ का चयन करके और तीसरा, ‘Organize’ से ‘Delete’ पर क्लिक करके।
  • इन तीनों विकल्पों में से किसी भी विकल्प का उपयोग करके फाइल या फोल्डर को डिलीट किया जा सकता है जिसके बाद एक कंफर्मेशन डायलॉग बॉक्स प्रतीति होगा, जिसमें ‘Yes’ पर क्लिक करके आप उस फाइल या फोल्डर को डिलीट कर सकते हैं।

नोट: इन विकल्पों का प्रयोग करने पर फाइल या फोल्डर तो हो जायेंगे लेकिन स्थायी तौर पर नहीं। ये अस्थायी तौर पर डिलीट होकर रिसाइकिल बिन में पहुँच जाती हैं ताकि अगर भविष्य में कभी भी आपको इनका प्रयोग करना हो तो इन्हें रिसाइकिल बिन से एक्सेस किया जा सके यदि आप इन फाइल्स का प्रयोग बिल्कुल भी नहीं करना चाहते हैं तो इन्हें रिसाइकिल बिन से ही डिलीट किया जा सकता है। अगर आप इन फाइल्स या फोल्डर्स को परमानेंट डिलीट करना चाहते हैं तो फाइल या फोल्डर का चयन करने के बाद कीबोर्ड शॉर्टकट के रूप में ‘Shift+Delete’ का प्रयोग कीजिए

रिसाइकिल बिन से फाइल को डिलीट करना (Deleting Files from Recycle Bin in Hindi)

कम्प्यूटर के लिए प्रत्येक ड्राइव का 10 प्रतिशत स्पेस रिसाइकिल बिन के लिए आरक्षित होता है यानी अगर डी ड्राइव का कुल स्पेस 50 जीबी है

तो आप उसमें 5 जीबी तक का डाटा डिलीट करके रिसाइकिल बिन में रख सकते हैं (जिसे अपनी आवश्यकतानुसार बढाया भी जा सकता है) अगर आप रिसाइकिल बिन से फाइल्स डिलीट करना चाहते हैं तो निम्न चरणों का अनुसरण कीजिए:

  • रिसाइकिल बिन ओपन कीजिए। विंडो ओपन होने के बाद जिस भी फाइल को डिलीट करना चाहते हैं, उस पर क्लिक करके ‘Delete’ कुंजी दबाइये और कंफर्मेशन बॉक्स ओपन में ‘Yes’ पर क्लिक कीजिए। वह फाइल हमेशा के लिए डिलीट हो जायेगी।
  • अगर आप पूरी रिसाइकिल बिन को खाली करना चाहते हैं, तो ‘Empty the Recycle Bin’ पर क्लिक कीजिए और कंफर्मेशन बॉक्स में ‘Yes’ पर क्लिक कीजिए।

फाईलों तथा फोल्डरों को ढूँढ़ना (Searching Files and Folders in Hindi)

कम्प्यूटर पर कार्य करते हुए हम कई फाइल्स और फोल्डर्स बनाते रहते हैं जो कम्प्यूटर की अलगअलग ड्राइब्स और अलगअलग फोल्डर्स के अन्दर स्टोर हो सकती हैं।

अगर स्टोर फाइल्स या फोल्डर्स की संख्या कम है तब तो आप अपनी इच्छानुसार फाइल्स और फोल्डर्स को बड़ा आसानी से खोज सकते है लेकिन यदि ड्राइव में हजारों फाइल्स मौजूद हों तो।

ऐसी स्थिति में इच्छित फाइल या फोल्डर को खोजना कुछ मुश्किल हो जाता है। कई बार तो फाइल्स का नाम तक याद रखना कठिन होता है।

इसलिए विंडोज गूगल सर्च इंजिन की तरह सर्च टूल प्रदान करता है ताकि आपको एकएक फोल्डर ओपन करके अपनी फाइल खोजना पडें। यह टूल विंडोज के स्टार्ट मैन्यू में ‘Search’ नाम से दिया जाता है। विंडोज 7 में इच्छित फाइल को दो प्रकार से खोजा जा सकता है।

पहला तरीका:

  1. अगर आपको यह पता हो कि फाइल कम्प्यूटर में किस स्थान पर है तो स्टार्ट बटन क्लिक कीजिए और स्टार्ट मेन्यू ओपन कीजिए।
  2. ओपन मैन्यू में सबसे नीचे सर्च बॉक्स दिया गया होगा, इसमें अपनी फाइल का नाम टाइप कीजिए। नाम टाइप करते ही सम्बन्धित नाम वाली फाइल के आइकॉन ऊपर की और प्रदर्शित होने शुरू हो जायेंगे। जैसे ही वह फाइल प्रदर्शित हो जिसे आप खोज रहे थे उस पर क्लिक कीजिए और फाइल ओपन कर लीजिए।

दूसरा तरीका:

  1. अगर आपको पता है कि आपकी फाइल किस फोल्डर में है लेकिन उसे खोज नहीं पा रहे है तो उस फोल्डर को ओपन कीजिए।
  2. विंडोज एक्सप्लोरर में शीर्षदायीं और एक सर्च बॉक्स दिया गया होगा। यहाँ उस फाइल का नाम टाइप कीजिए जिसे आप खोजना चाहते हैं। विंडोज एक्सप्लोरर सभी संभावित फाइल्स की एक लिस्ट प्रदर्शित करने लगेगा विंडोज एक्सप्लोरर (Windows Explorar) द्वारा विंडो की दायीं और शीर्ष पर प्रदान किये गये सर्च बॉक्स पर फाइल का संभावित नाम टाइप कीजिए। ऐसा करते ही विंडोज एक्सप्लोरर सभी संभावित फाइल्स की एक लिस्ट प्रदर्शित करने लगेगा।

https://www.youtube.com/watch?v=Einnk7bfZJI

ये भी पढ़ें:-

मैं आसा करता हूँ की आपको बहुत सारी जानकारी मिली होगी फाइल और फोल्डर (File and Folder in Hindi) के बारे में और अब आप प्रैक्टिकल कर के भी देख सकते हैं ताकि आपको और भी अच्छे से समझ आजाएगा अगर आप और भी जानना चाहते हैं डिटेल में तो यहाँ क्लिक करें।