If you searching for the best emotional poems in Hindi then you are in the right place. Here I’m sharing with you unique emotional poems in Hindi which is really amazing and interesting I’m sure you will like it and appreciate it. These emotional poems also encourage you in your life.

1.कभी तनहाई में Emotional Poems in Hindi

वर्षा की उस प्रथम बूंदसी सौंधी खुशबू दे जाता है, तनहाई में कभी कभी जब प्रथम प्रेम वो याद आता है

सहज, विमल , वो चंद्र किरणसी मृदु हँसी तेरी है बाकी लेकिन कभी वो तेरा रोना,

और तुनकना याद आता है. तनहाई में कभी कभी जब प्रथम प्रेम वो याद आता है

कितने ही जो साथ बिताये मैंनेतूने पल जो प्यारेबातें करती आंखें अपनी,

वो चुप रहना याद आता है. तनहाई में कभी कभी जब प्रथम प्रेम वो याद आता है

बीत गए सब निशादिवस वो, बीत गए वो चंचल सपने;

फिर भी यादों के रस्ते जब कोई स्वप्न दिल धड़काता है।

तनहाई में कभी कभी तब प्रथम प्रेम वो याद आता है,

  1. फिर से रुमानीEmotional Poems in Hindi

तन्हाई को बोलने दोयादों की दस्तक पे कभी दिल के दरवाज़े खोलने दो !

हंसो कभी, मुस्कुराओ थोडा, दोहराओ वही कहानीकभी कभी अच्छा ही हैगर हो जाओ फिर रुमानी

  1. किसी कलम से यूं ही Emotional Poems in Hindi

सोचा करता हूँ भूलूं तुम्हें, पर लगता है तुम याद कहाँ ….

तुम बसती हो मेरे मन में, या कोई छलावा बसा वहाँ.

ये प्रेम है या ये श्रद्धा है, मैं पता नहीं कर पता हूँ देखो तो कैसा खेल है ये, ख़ुद अपनी थाह पाता हूँ.

मन मेरा थोड़ा चंचल है, बस तुम पर ही जाता है। सोचा करता बस तुमको ही, कुछ और करने पाता है.

मैंने इसको ही समझाया, कुछ धमकाया, कुछ फुसलाया पर मेरी एक सुनता है,

अपने ही सपने बुनता है, खोया रहता बस तुम में ही, और नही , कुछ और नही कुछ

अब मैंने निश्चय है ठानातुम को होगा मन जानाया सुननी होगी व्यथा मेरी,

ये प्रेम की करुणसी कथा मेरी. कुछ तुम बोलो, कुछ हम बोलें, मन के सारे बन्धन खोलें

जाने मन में रहता क्या , चुप तभी था मैं कुछ कहता क्या

  1. तो शायद कुछ अच्छा होता Emotional Poems in Hindi

गर तुम मुझ से प्यार करतीगर तुम यूँ मुझ पर मरतीं तो शायद कुछ अच्छा होता

सोचा करतीं तुम ऐसे भला रहूँ मैं रहूँ जहाँ भीगर चुप्पी हमको अखरती तो शायद कुछ अच्छा होता..

होती तुम भी औरों जैसे वफ़ा निभाना खुदा होता सोच ज़रा यूँ दूर निकलती तो शायद कुछ अच्छा होता..

  1. साथ तुम्हारा छूट गया है Emotional Poems in Hindi

. संग मेरे तुम रहती हरदम संग सदा चलती थी मेरे कुछ था तेरा मेरा

सुख दुःख सब थे मेरे तेरे जनम जनम का जो था सोचा रिश्ता अब वो टूट गया है साथ तुम्हारा छूट गया है..

. कितने दिन और कितनी रातें कितनी ! हाँ, कितनी ही बातें

मैंने तुझको तुने मुझको जो बतलाई नैन की पातें जीवन भर थी जो सारी हाय !

उन बातो का संचय जाने सहसा ही कोई कौन लुटेरा लूट गया है साथ तुम्हारा छूट गया है..

. माना था बस तुमको अपना बाकि सारा जग था सपना सपनो के सपने ही बुनते देख सका सच्चाई तक ना

सपने से जागा तो देखा छनसे शीशा टूट गया है साथ तुम्हारा छूट गया है

  1. एक कोना Emotional Poems in Hindi

खाली खाली आज दिल का एक कोना भासता है कुछ छुपी, कुछ दरबी, उलझी जाने कैसी दास्तां है

एक कोना हरा था भरा था प्रेम रस से हो गया था सूख जर्जर

हुए थे सब स्वप्न अवश से सोच बैठा था ये माली

रीता उपवन सूखी डाली उस समय उस जड़ चमन की तुमने क्यारी सींच डाली

लहलहाई फ़िर से कलियाँ

पंछी फ़िर से चहचहाये मत्त हो उस मत्तता में खगविहग ने गीत गाये माली भी पुलकित हुआ तब था मुदित मन वो प्रफुल्लित पर प्रारब्ध की चाल टेढ़ी भाग्य के भी खेल कुत्सित

प्यार टूटी जाने कैसे जाने कैसे स्रोत्र सूखा प्रेम रस से भीनाभीना वो ह्रदय भी हुआ रुखा

डाली सूखी , सूखा उपवन खगविहग का करुण क्रन्दन

चीरता दिल, करता टुकड़ेमाली का उजड़ा था उपवन

छोड़ो, वह तो है पुरानी बात ,

ये सब कालवश था मेरा ही मन था वो उपवनमैं था मालीमैं विवश था

आज जाने क्या हुआ है कौन रोग है, क्या पता है खालीखाली आज दिल का एक कोना भासता है

  1. अंतर्दर्शन / खोज Emotional Poems in Hindi

रिश्ते सारे अब बदल गए मुझ में तुझ में वो बात नहीं. अब राहें अपनी जुदाजुदा कुछ तेरामेरा साथ नही

पर पता नहीं क्यों कभी कभी जाने कहाँ से , चुपके से एक याद तेरी जो आती है जागे कुछ अरमां दुबकेसे.

मैंने तुझको ही भुला दिया ये मन तो मान नही पाता, मैं मूर्ख बनाता हूँ ख़ुद को आइना मुझे ये दिखलाता .

मैं तो अब खुद से हार चुका तेरी बातें करते करते, अबवोही राह दिखायेगा मैंने सोचा चलते चलते

  1. प्रलाप Emotional Poems in Hindi

सखी ! बड़ी ही निर्मोही तुमनिर्मम है पाषाण ह्रदयकोमल भाव जो देख पाया, देखा नैनों का अमय

जाना तूने किस भांति व्याकुल रहते प्राण मेरेज्यों चातकसा था मन मेरा स्वाति थे जो नैन तेरे

कभी जानी पीड़ हिये की आकुल अन्तर जाना, पास बुला फिर घोर उपेक्षित करना ही मंतर माना

क्या क्रीडा, कुछ समझ पाया जाना ये खेल तेरा, ज्ञात तुझे किंचित पहले थाहो मुझसे मेल तेरा

ऐसा था तो है ! फिर क्यो खेल किया ये संग मेरे ? क्यो गा के रागिनी जगायासुप्त पडे जो भाव मेरे !

दैव रचित निज भाग्य जानकर मैं लेता संतोष अभी लेकिन तूने क्या किया, ! तोड़ के मेरे स्वप्न सभी?

  1. रात्री (निशा) Emotional Poems in Hindi

जब रवि छिप जाते क्षितिज पीछे, होतें हैं शशि शोभित नभ पेसपने जागते जगती के तब मन आकुल होते हैं सब के.

इठलाती पहने तारकमालरजनीबाला हरती मन को, शीतल समीर करता विदीर्ण विरहित हृदय के प्रीतम को .

जुगनू करते जगमगजगमग, पत्ते मरमरमरमर करते हैं ध्यानस्थसे बैठे वृक्षों पर मानो उलूक तप करते हैं.

निद्रा देती उपहार उन्हें, विश्राम का जो कर श्रम दिन भर हो चुके क्लांतफिर जागेंगे एक नई चेतना को लेकर.

  1. ब्रह्म in Hindi Emotional Poems

सारे मुख उस एक ब्रह्म के सारे नेत्र उसी के हैं; हैं सारी नासिक उसी की सारे क्षोत्र उसी के हैं ! –

एक वही जो सदा भासता लेकर नित नित रूप नए; दिखते हैं जो और ना दिखते सब स्वरूप उसी के हैं!

सुविचार उस एक ह्रदय के एक ही है मन हम सब का; मात , पिता , गुरु स्वयं वही है हम सब खेल उसी के हैं !

एक वही बन पवन है बहता हर वन उपवन , हर घाटी; छमछमछम सावन में बरसे काले मेघ उसी के हैं ! –

वही रवि है बना दिवस मेंरात्रि का शशि वही; कितने अगणित , नभ में शोभिततारक रत्न उसी के हैं!

वही विष्णु, वही ब्रह्मा, वही शिव बना हुआ है विराज रहा; सृष्टि, पालन संहरों के सारे खेल उसी के हैं!

नही शेष कुछ सिवा उसी केसब कुछ उस से आच्छादित ; ये मन , ये तन , ये श्वासें अब ये प्राण उसी के हैं !

  1. विनती Emotional Poems in Hindi

तुम कर्ता धर्ता भी तुम ही तुम ही हो जग के आधार हम सब कठपुतलियां है तेरी लीला तेरी अपरम्पार

जो होता तुझसे होता है हम बस माध्यम मात्र रहे सुख दे तू तो सुख से रह लें दुःख दे तो वो दुःख भी सहें

गर्व हो कभी लेशमात्र भी जो दीखता सब है लीला तेरी, तू ही विश्वनियन्ता जैसे चाहे तू खेला

कर जोड़ें हम करे ये विनती हमको इतना ज्ञान रहे हम हैं तेरे अंश सदा ही बस तेरा ही ध्यान रहे

  1. याचना Emotional Poems in Hindi

इस जगजगती के प्राणों में, हो बस तेरा आधार, हरे ! इस सकल जगत की क्रीडा में,

होवे लीला विस्तार , हरे !! हो लक्ष्य यही इस जीवन कापावें तुझको साकार ,

हरे ! इतनी तो कृपा कर दे, भगवान, रहे ह्रदय में तेरा प्यार , हरे !!

  1. उदघोष्णा Emotional Poems in Hindi

जला नहीं सकती है अग्नि, काट नहीं सकती तलवार ! नहीं डुबोता पानी मुझको पवन पाए मुझ से पार !!

मैं अनंत हूँ दिव्य सनातन, मैं सत हूँ चित्त हूँ आनंद। मुक्त दूं मैं परमहंससा. बांध सके कोई फंद!

आता जो कुछ पंचद्वार से और जो कुछ जाता बाहर बस वो है एक छल, एक सपनामिले कुछ उसको पाकर

जानता हूँ मैं सत्य सनातन और जानता मैं अनश्वर ! हूँ तो इस धरती का मानव पर मैं ही हूँ परमेश्वर !!

मैं निस्सीम मैं विभु मैं व्यापक कुछ मेरा परिवार ! सूक्ष्म भी मैं, अतिसूक्ष्म भी मैं हीमैं जीवन ! मैं ही संसार !!

सुनो सुनो, ! यदि जो चाहो जीवन जीने की विद्या – “एक बस तुम ही सत्य सनातन

बाकि सब है जड़, मिथ्या” “जो तुम हो बस उसको जानो बाकि जो भी सब है शेष छोड़ दो उसको जैसा है वो रहो सदा बस तुम निः शेष

  1. लेखाजोखा Emotional Poems in Hindi

बीत गए कुछ लम्हे हँसते, रोते रोते कुछ बीते कितना ही कुछ हार गए हम लेकिन थोडासा जीते.. ,

दूर कहीं जो बीत गयी वो बात पुरानी लगती है रोज़ नया दिन अब तो हमको नयी कहानी लगती है;

दिल के जो भी हुए थे टुकड़े बैठे हैं उनको सीते कितना ही कुछ हार गए हम, लेकिन थोडासा जीते

जिनको भी समझा था अपना जिनसे दुनिया बसती थी, जिनके होने से ही हम थे जिनसे अपनी हसती थी छोड़ गए वो कितना तनहा,

आंसू भी अब तो रीते ! कितना ही कुछ हार गए हम, लेकिन थोड़ासा जीते ..

जीवन के हैं खेल निराले हारजीत का पता नहींशीश महलसा जादू है सब ; सही गलत, तो गलत सही !

कहीं कहीं पे सही रहे हम लेकिन कहीं गलत भी थे कितना ही कुछ हार गए हम, लेकिन थोडासा जीते..

  1. पहचान Emotional Poems in Hindi

सोचा करता हूँ कभी कभी मैं कौन हूँ क्या पहचान मेरी ?

क्या मैं इक माँ का बेटा हूँ जिस पर कि नेह बरसता है माँ के शीतल आँचल में जिसे बैकुंठसा ही सुख मिलता है

या भाई हूँ बहनों का जिनसे जितना है प्यार मिला नही अणु धरा पर हैं उतने ना ही अम्बर में तारे

या प्रेमी हूँ उस बाला का मन में है जो, और है भी नही सोचा करता नित उसको ही जिसका मुझे कुछ पता नहीं

या मैं हूँ एक कर्मठ लड़का जैसा की दुनिया कहती है पाना है कुछ मुझको भी यहाँ इच्छा मेरी भी रहती है

खोजे चलती है नित मन में प्रश्नों के ज्वार भी उठते हैं मन लंबे डग ले चलता है यादों के दल जुटते हैं

यह मौन प्रश्न नित मुखरित हो मेरे ही इस अंतर्मन में

उठता है , कहता है मुझसे मैं कौन हूँ, क्या पहचान मेरी

उत्तर जिस दिन पा गया कभी वह दिवस पता कब आएगा उस दिन मेरा मन मुझ से ही पहचान मेरी करवाएगा !!

  1. महासागर में अर्जुन Emotional Poems in Hindi

आज मेरी स्तिथि है उस अर्जुन से जो खड़ा है महासागर में दो सेनाओं के बीच अपने कर्तव्य से

विमुख हुआ जाता है जो; जानता है पूरे पक्ष की इच्छाओं और अभिलाषाओं का बोझ उसे ही उठाना है अपने कन्धों पर

पर वे कंधे ही आज शिथिल पड़ गए हैं ! गुंजायमान कर देता तीन भुवन को जो उसी गांडीव की टनकार आज

डरा रही है निज मन को ही क्या कारण है ?? पता नहीं.. मन किसी अनजाने अनिष्ट की आशंका से कम्पित हुआ जाता है;

आवश्यकता है आज उसे किसी कृष्ण की जो अपने गीता ज्ञान से काटे भ्रम के तम को दिखाए रह सही

इस डरे हुए अर्जुन को राह सही , कर्तव्यपरायणता की

  1. समझौताEmotional Poems in Hindi

अपने हालात से  समझौता किये जाता हूँ फ़ना होता हूँ हर एक लम्हा मैं  हर एक लम्हा मैं जिए जाता हूँ  

ग़ुम हो जाता हूँ मैं  अपनी ही तनहाइयों में और तनहाइयों में ही सुकूँ पाता हूँ  फ़ना होता हूँ

हर एक लम्हा मैं  हर एक लम्हा मैं जिए जाता हूँ   छोड़ बैठा हूँ मैं उम्मीद एक उजाले की अब अंधेरों में ही गुनगुनाता हूँ

फ़ना होता हूँ हर एक लम्हा मैं  हर एक लम्हा मैं जिए जाता हूँ

  1. उम्र बिता दी Emotional Poems in Hindi

उम्र बिता दी बेज़ा हमने अच्छे से कुछ कर सके पूरा जूझ पाए गम से पूरा और हम डर सके

अच्छा जिसको समझा हमने उसने ही तो बुरा किया बुरा जो करते थे उनका भी अच्छा थोडा कर सके उम्र बिता दी बेजा हमने..

खुश थे कितने कितने गमगीं कितने ऐसे वैसे थे जैसे थे वैसे अच्छे थे बदल नया कुछ कर सके उम्र बिता दी बेज़ा हमने..

बचपन के कितने थे अरमाँ कितने ही तो सपने थे सपने ही सपने रह पाए बच्चे थेकुछ कर सके उम्र बिता दी बेज़ा हमने

बदल गया जो हमको उसने मुडके भी फिर देखा दूर तलक बस देख ही पाए रहे पड़े जड़चल सके उम बिता दी बेज़ा हमने

कभी कहीं तो कभी कहीं पर सोचा कहीं किनारा हो घुमे ऐसे ही आवारा एक कोई घर कर सके उम्र बिता दी बेटा हमने

कभी उसे ईमान बनाया उसकी कहीं दुहाई दी लेकिन कोई एक ही मालिक ईश्वर अल्लाह कर सके उम्र बिता दी बेटा हमने

  1. कविता Emotional Poems in Hindi

कविता क्या है?? कविता एक भरे हुए दिल की आहएक विफल प्रेमी की कराह है. .

कविता आंसू हैं दिल के जो छलक आए है कागज़ पर

कविता है बारिश के पानी का छमछमकविता है सूखे पत्तों का मरमर ..

लेकिन ये सोचो कविता केवल थके हारे हुए लोगों की आवाज़ है

भर देता है निष्प्राण मुर्दे को जीवन के स्पंदन से..

ये वो अनोखा साज़ हैऔर ये है एक माध्यम

जो कवि को कर देता है एक उस अनंत चैतन्य से

जिसने ये सारी सृष्टि निर्मित की हैजब कवि एक नई कविता रचता है

तब क्या वो ही एक नई सृष्टि नही रच रहा होता है ??

जब हँसता है कवि.. तो वो ही हंस रहा होता है

और जब कवि रोता है .. क्या वो ही नही रोता है !!

Thank you for reading these Emotional Poems in Hindi I’m sure you would like it. In this article versus type emotional poem, you can find and read it if you want you can share these poems with your friends and family I’m sure they will also like these poems, and thank you for sharing these poems.